इंडिया न्यूज़दिल्लीमुख्य समाचार
Trending

Indian Army Agniveer: संसदीय समिति कि सिफारिश, मिलनी चाहिए सामान्य सैनिकों की तरह पेंशन व अन्य सुविधाएं

अग्निवीर योजना के तहत 17 साल से 21 साल तक के युवाओं को सेना की तीनों शाखाओं में सेवा करने का मिलता है मौका

Advertisement

दिल्ली, Indian Army Agniveer: ड्यूटी के दौरान अपने प्राणों की आहुति देने वाले अग्निवीर के परिजनों को सामान्य सैनिकों की तरह पेंशन व अन्य सुविधाएं मिलनी चाहिए। संसदीय समिति ने यह सिफारिश की है. मौजूदा प्रावधानों के मुताबिक, ड्यूटी के दौरान शहीद हुए अग्निवीर के परिवार को आम सैनिकों जैसी सुविधाएं नहीं मिलतीं।

संसदीय समिति ने अपनी रिपोर्ट में कहा

रक्षा मामलों की संसदीय समिति ने अपनी ताजा रिपोर्ट में कहा है, ‘परिवार के सदस्यों के दुख को ध्यान में रखते हुए, समिति सिफारिश करती है कि कर्तव्य के दौरान शहीद हुए अग्निवीर शहीदों के परिवारों को भी वही लाभ और सुविधाएं मिलनी चाहिए।’ जो सामान्य सैनिकों को दिये जाते हैं और उनके परिवार को मिलते हैं.

Advertisement

अग्निवीर योजना का उद्देश्य-

सरकार ने जून 2022 में सेना के तीनों अंगों में अग्निपथ योजना शुरू की थी. इस योजना के तहत युवाओं को अल्पावधि के लिए सेनाओं में शामिल किया जाता है। अग्निवीर योजना का उद्देश्य सेना की तीनों शाखाओं की औसत आयु कम करना है। अग्निवीर योजना के तहत 17 साल से 21 साल तक के युवाओं को सेना की तीनों शाखाओं में सेवा करने का मौका मिलता है। अग्निवीर योजना के तहत भर्ती होने वाले युवाओं में से 25 प्रतिशत को सेना में स्थायी कमीशन दिया जाता है।

अनुग्रह राशि को 10 लाख रुपये बढ़ाने की सिफारिश

संसदीय समिति ने ड्यूटी के दौरान जान गंवाने वाले सैनिकों को दी जाने वाली अनुग्रह राशि को प्रत्येक श्रेणी में 10 लाख रुपये बढ़ाने की भी सिफारिश की है. रक्षा मंत्रालय ने समिति को बताया कि वर्तमान में, ड्यूटी के दौरान किसी दुर्घटना या आतंकवादी हिंसा या असामाजिक तत्वों के हमले में जान गंवाने वाले सैनिकों के परिवारों को 25 लाख रुपये की अनुग्रह राशि मिलती है।

Advertisement

अधिकतम राशि 55 लाख रुपये होनी चाहिए

वहीं, सीमा पर झड़पों या आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ या समुद्री डाकुओं के साथ मुठभेड़ में जान गंवाने वाले सैनिकों को वर्तमान में 35 लाख रुपये की अनुग्रह राशि मिलती है। वहीं, युद्ध के दौरान दुश्मन के हमले में शहीद होने वाले सैनिकों को 45 लाख रुपये की अनुग्रह राशि दी जाती है। संसदीय समिति ने अपनी सिफारिश में कहा है कि ‘सरकार को अनुग्रह राशि बढ़ाने पर गंभीरता से विचार करना चाहिए प्रत्येक श्रेणी में 10 लाख रुपये की राशि। साथ ही इसकी न्यूनतम राशि 35 लाख रुपये और अधिकतम राशि 55 लाख रुपये होनी चाहिए.

 

Advertisement
Advertisement

Hackette

हमारा उद्देश्‍य देश और दुनिया के लोगों को वास्तवविकता से अवगत कराना, विशेष रूप से राजनीतिक खबरों पर पैनी नजर और समसामयिक घटनों का विष्लेषण एवं अपराध समाचारों को सब से पहले आपतक पहुँचाना हमारी जिम्मेदारी
Back to top button