इंडिया न्यूज़मुख्य समाचार
Trending

PM Modi In UAE Visit: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 14 फरवरी को अबू धाबी में हिंदू मंदिर का करेंगे उद्घाटन

यूएई स्थित पहले हिंदू मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर तैयारियां तेज हो गई है। पीएम मोदी 14 फरवरी को कार्यक्रम में शिरकत करेंगे।

Advertisement

इंडिया न्यूज़, PM Modi In UAE Visit:  संयुक्त अरब अमीरात में पहले हिंदू मंदिर की प्रतिष्ठा के लिए तैयारियां तेज हो गई हैं। पीएम मोदी 14 फरवरी को कार्यक्रम में शामिल होंगे. मंदिर से जुड़े वीडियो में खूबसूरत नक्काशी देखी जा सकती है. इस बीच भारत में यूएई के राजदूत ने इस दौरे को बेहद खास माना हैप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अबू धाबी में बोचासनवासी अक्षर पुरूषोत्तम स्वामीनारायण संस्था (बीएपीएस) हिंदू मंदिर का उद्घाटन 14 फरवरी को करेंगे।

अबू धाबी में पहले हिंदू मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव में सिर्फ दो दिन बचे हैं

पीएम मोदी 14 फरवरी को कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे. उल्लेखनीय है कि यह मध्य पूर्व में पारंपरिक हिंदू स्थापत्य शैली में पहला पत्थर से निर्मित मंदिर होने जा रहा है, जिसका निर्माण BAPS संगठन द्वारा किया गया है। अबू धाबी में स्थित यह भव्य मंदिर भारत और संयुक्त अरब अमीरात के बीच मित्रता, सांस्कृतिक सद्भाव और सहयोग की भावना का प्रतीक है। प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम से पहले मंदिर को रोशनी से जगमगाया गया है.

Advertisement

40 हजार क्यूबिक फीट संगमरमर का इस्तेमाल किया गया

गौरतलब है कि यूएई में तीन अन्य हिंदू मंदिर भी हैं जो दुबई में स्थित हैं। लेकिन BAPS पूरे खाड़ी क्षेत्र में सबसे बड़ा मंदिर होगा। पत्थर की वास्तुकला के साथ एक बड़े क्षेत्र में फैला बीएपीएस मंदिर खाड़ी क्षेत्र का सबसे बड़ा मंदिर होगा। प्रधानमंत्री मोदी मंगलवार से संयुक्त अरब अमीरात की दो दिवसीय यात्रा करेंगे और इस दौरान वह 14 फरवरी को विशाल मंदिर का उद्घाटन करेंगे। खास बात यह है कि आंतरिक भाग के निर्माण में 40,000 क्यूबिक फीट संगमरमर का उपयोग किया गया है। मंदिर का.

Advertisement

पीएम मोदी के दौरे को लेकर उत्साह- अलशाली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की यूएई यात्रा को लेकर यूएई खासा उत्साहित दिख रहा है। भारत में यूएई के राजदूत अब्दुलनासिर अलशाली ने सोमवार को उम्मीद जतदाई है कि यह दोनों देशों के रणनीतिक संबंधों को नई ऊंचाई पर ले जाएगा। अलशाली ने कहा कि यह यात्रा बेहद खास है। हम इसको लेकर गौरवान्वित और सम्मानित महसूस कर रहे है। अलशाली ने कहा कि यूएई-भारत संबंध न केवल द्विपक्षीय अर्थों में बल्कि बहुपक्षीय बैठकों, सभाओं और जुड़ावों सहित सहयोग के अन्य सभी क्षेत्रों में भी रणनीतिक है।

Advertisement

कहां स्थित है यह मंदिर?

मंदिर अबू धाबी में ‘अल वाकबा’ नाम की जगह पर 20,000 वर्ग मीटर की जमीन पर बना है। हाइवे से सटा अल वाकबा अबू धाबी से तकरीबन 30 मिनट की दूरी पर है। बता दें भारतीय दूतावास के आंकड़ों के मुताबिक, यूएई में तकरीबन 26 लाख भारतीय रहते हैं, जो वहां की आबादी का लगभग 30% हिस्सा है। मंदिर में नक्काशी के माध्यम से प्रामाणिक प्राचीन कला और वास्तुकला को पुनर्जीवित किया गया है। मंदिर प्रबंधन के एक प्रवक्ता अशोक कोटेचा ने बताया कि मास्टर प्लान के डिजाइन को 2020 की शुरुआत में पूरा किया गया था। ऐतिहासिक मंदिर का काम समुदाय के समर्थन, भारत और यूएई के नेतृत्व से आगे बढ़ रहा है।

बता दें यूएई सरकार ने अबू धाबी में मंदिर बनाने के लिए 20,000 वर्ग मीटर जमीन दी थी

यूएई सरकार ने साल 2015 में उस वक्त ऐलान किया था, जब प्रधानमंत्री मोदी दो दिवसीय दौरे पर वहां गए थे। संयुक्त अरब अमीरात की राजधानी अबूधाबी में पहले हिंदू मंदिर बनकर तैयार हो गया है। मंदिर निर्माण में इको-फ्रेंडली तरीके पर जोर दिया जा रहा है। बता दें कि पीएम नरेंद्र मोदी ने 2018 में दुबई के दौरे पर वहां के ओपेरा हाउस से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बोचासनवासी अक्षर पुरुषोत्तम स्वामीनारायण संस्था ने मंदिर की आधारशिला रखी थी।

Advertisement
Advertisement

Pooja Singh

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)
Back to top button