इंडिया न्यूज़उत्तर प्रदेश

यूपी होमगार्ड्स में महिलाओं को नौकरी के बड़े अवसर देने जा रही है प्रदेश सरकार

Advertisement

इंडिया एज न्यूज नेटवर्क

लखनऊ। प्रदेश सरकार यूपी होमगार्ड्स में महिलाओं को नौकरी के बड़े अवसर देने जा रही है। विभाग के रिक्त पड़े 20 प्रतिशत पदों पर केवल महिलाओं की भर्ती होगी। अधिकारियों को 100 दिनों में भर्ती प्रक्रिया को शुरू करने के प्रस्ताव को बना लेने के लिए कहा गया है। शांति व्यवस्था बनाने और आतंरिक सुरक्षा में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले होमगार्ड विभाग में होने वाली इन भर्तियों से प्रदेश में महिलाओं के प्रति अपराधों में भारी कमी आएगी। प्रदेश में सुरक्षा का माहौल भी विकसित होगा।

Advertisement

अपनी हिम्मत और जज्बे से बुलंदियों को छूने का सपना रखने वाली प्रदेश की महिलाओं को अवसर मिलने से वे प्रदेश की सुरक्षा व्यवस्था को सुदृढ़ बनाने में सहयोगी बनेंगी। महिलाएं अपनी दक्षता और कार्यकुशलता दिखाएंगी और जनता की सेवा भी कर सकेंगी। सरकार ने अगले 04 वर्षों में होमगार्ड के रिक्त पड़े सभी पदों को चरणवार भरने के लिए भी दिशा-निर्देश जारी कर दिये हैं। सशक्त नारी, सक्षम युवा और सभी विभागीय रिक्तियों को शीघ्रता से भरने और नौकरियों में महिलाओं की संख्या बढ़ाने में सरकार तेजी से काम कर रही है।

प्रदेश में हर साल एक लाख से ज्यादा लोगों को नौकरी देने जा रही योगी सरकार महिलाओं को सशक्त और स्वावलंबी बनाने में जुटी है। उसने सभी सरकारी महमकों में रिक्त पदों में महिलाओं की संख्या बढ़ाने पर भी जोर दिया है। बता दें कि होमगार्ड विभाग ने अब तक समाज के प्रत्येक वर्ग से लाखों पुरुष और महिलाओं को संगठन का सदस्य बना कर देश की सुरक्षा में किन्हीं भी विषम परिस्थितियों से सफलतापूर्वक निपटने की दक्षता विकसित की है। उत्तर प्रदेश होम गार्डस संगठन के लिये भारत सरकार ने वर्तमान में 1,18,348 होम गार्डस स्वयंसेवकों की स्वीकृति दी है। जिनमें 785 ग्रामीण, 366 नगरीय कम्पनियों सहित कुल 1151 कम्पनियों की संरचना की गयी है, जिसमें 25 महिला कम्पनियां एवं 60 स्वतंत्र महिला प्लाटूनें भी शामिल हैं।

Advertisement
Advertisement

India Edge News Desk

Follow the latest breaking news and developments from Chhattisgarh , Madhya Pradesh , India and around the world with India Edge News newsdesk. From politics and policies to the economy and the environment, from local issues to national events and global affairs, we've got you covered.
Back to top button