इंडिया न्यूज़गुजरातबिज़नेस

अडानी ने किया भारत की अग्रणी मरीन सर्विसेज प्रोवाइडर का अधिग्रहण

Advertisement

इंडिया एज न्यूज नेटवर्क

अहमदाबाद : अदाणी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक ज़ोन लिमिटेड (“एपीएसइजेड”) ने अपनी सहायक कंपनी, द अदाणी हार्बर सर्विसेज लिमिटेड (“टीएएचएसएल”) के माध्यम से, भारत की अग्रणी थर्ड-पार्टी मरीन सर्विसेज प्रोवाइडर, ओशन स्पार्कल लिमिटेड (‘ओएसएल’) में 100 फीसदी हिस्सेदारी के अधिग्रहण के लिए एक निश्चित समझौता किया है। कंपनी द्वारा की जाने वाली प्रमुख गतिविधियों में टोवेज, पाइलटेज और ड्रेजिंग शामिल हैं। अपने 94 स्वामित्व वाले जहाजों और 13 थर्ड-पार्टी स्वामित्व वाले जहाजों की परिसंपत्ति के साथ ओएसएल एक मार्केट लीडर है। ओएसएल के पास कंपनी में 300 करोड़ रुपये के फ्री कैश के साथ 1,700 करोड़ रुपये की एंटरप्राइज वैल्यू है। कंपनी की स्थापना 1995 में मरीन टेक्नोक्रेट्स के एक समूह द्वारा की गई थी, जिसमें श्री पी जयराज कुमार चेयरमैन और एमडी थे, जो ओएसएल बोर्ड के चेयरमैन के रूप में बने रहेंगे।

Advertisement

एपीएसईजेड के सीईओ और पूर्णकालिक निदेशक, श्री करण अदाणी ने कहा” ओएसएल और अदाणी हार्बर सर्विसेज के तालमेल को देखते हुए, यह संगठित व्यवसाय बेहतर मार्जिन के साथ पांच वर्षों में दोगुना होने की संभावना है, जिससे एपीएसईजेड के शेयरधारकों के लिए आवश्यक महत्व पैदा होगा। यह अधिग्रहण न केवल एपीएसईजेड को भारत के मरीन सर्विस बाजार का एक जरुरी हिस्सा प्रदान करता है, बल्कि हमें अन्य देशों में अपनी मौजूदगी बनाने के लिए एक मंच भी देता है, जिससे एपीएसईजेड के सफर को सुविधाजनक रूप से 2030 तक विश्व स्तर पर सबसे बड़ा पोर्ट ऑपरेटर और भारत में सबसे बड़ा इंटीग्रेटेड ट्रांसपोर्ट यूटिलिटी बनाया जा सके।”

ओएसएल के अपने मौजूदा ग्राहकों के साथ लंबे समय के संबंध, जो 5 से 20 साल के अनुबंधों के तहत हैं (अनुबंधों का औसत समय- 7 वर्ष है)। इसके अलावा, यह कॉन्ट्रैक्ट टेकिंग और पे (टीओपीए) के आधार पर होते हैं, जिससे ओएसएल के बिजनेस मॉडल को मजबूती मिलती है। कंपनी की भारत के सभी प्रमुख पोर्ट्स, 15 छोटे पोर्ट्स और सभी 3 एलएनजी टर्मिनलों में उपस्थिति है।
विगत वर्षों में, ओएसएल ने पूरे भारत में 1800 कर्मियों की एक टीम बनाई और कार्यरत की है। कंपनी को ओमान, सऊदी अरब, श्रीलंका, कतर, यमन और अफ्रीका में अपने संचालन के माध्यम से वैश्विक समुद्री सेवा में ख़ासा अनुभव प्राप्त है।

Advertisement

ओएसएल का आकर्षक कैपिटल स्ट्रक्चर, क्वालिटी ऑपरेशंस और स्थायी कैश फ्लो, इसकी आकर्षक क्रेडिट रेटिंग (एए- आईसीआरए द्वारा) में रिफ्लेक्टेड होता है। वित्त वर्ष 22 में कंपनी को 600 करोड़ रुपये का रेवेनुए होने का अनुमान है जिसमें 310 करोड़ रुपये ईबीआइटीडीए और 135 करोड़ रुपये पीएटी से होने की उम्मीद है। ओएसएल के कुल राजस्व का लगभग 92% समुद्री सेवाओं (टोवेज और पाइलटेज) द्वारा योगदान दिया गया था, और शेष 8% ड्रेजिंग और अन्य अपतटीय सेवाओं के संयुक्त मिश्रण से प्राप्त होता है। ईबीआइटीडीए अनुपात का शुद्ध ऋण 1x से कम है। एपीएसईजेड द्वारा ओएसएल का अधिग्रहण 5.7x के आकर्षक ईवी/एफवाय23ई ईबीआईटीडीए पर संपन्न हुआ है।

ऑपरेशनल और फाइनेंसियल तालमेल के दम पर, अदाणी हार्बर सर्विसेज का संयुक्त राजस्व और ईबीआईटीडीए, वित्त वर्ष 27 तक क्रमशः 100% उछलकर 5,000 करोड़ रुपये और 4,000 करोड़ रुपये तक पहुंचने की उम्मीद है।

Advertisement

अदाणी पोर्ट्स एंड स्पेशल इकोनॉमिक ज़ोन लिमिटेड (एपीएसईज़ेड), विश्व स्तर पर विविधताओं वाले अदाणी ग्रुप का एक हिस्सा है जो एक पोर्ट कंपनी से एक एकीकृत परिवहन यूटिलिटी के रूप में विकसित हुआ है और जो अपने पोर्ट से ग्राहक तक एक एंड-टू-एंड सॉल्यूशंस प्रदान करता है। यह भारत में सबसे बड़ा बंदरगाह विकासकर्ता और संचालक है, जिसके भारत के पश्चिमी तट पर (गुजरात में मुंद्रा, दहेज, टूना और हजीरा, गोवा में मोरमुगाओ और महाराष्ट्र में दिघी) 6 रणनीतिक रूप से स्थित महत्वपूर्ण बंदरगाह और टर्मिनल हैं और पूर्वी तट पर (ओडिशा में धामरा, आंध्र प्रदेश में गंगावरम, विशाखापत्तनम और कृष्णापट्टनम, और चेन्नई में कट्टुपल्ली और एन्नोर) 6 बंदरगाह और टर्मिनल हैं।6 रणनीतिक रूप से स्थित महत्वपूर्ण बंदरगाह और टर्मिनल हैं। ये देश की कुल बंदरगाह क्षमता के 24% का प्रतिनिधित्व करते हैं, और इस प्रकार तटीय क्षेत्रों और भीतरी दूर-दराज के इलाकों से भारी मात्रा में आने वाले कार्गो को संभालने की क्षमता प्रदान करते हैं। कंपनी विझिंजम, केरल और कोलंबो, श्रीलंका में दो ट्रांसशिपमेंट पोर्ट भी विकसित कर रही है। हमारे पोर्ट टू लॉजिस्टिक्स प्लेटफॉर्म में पोर्ट सुविधाएं, मल्टीमॉडल लॉजिस्टिक्स पार्क, ग्रेड ए वेयरहाउस और औद्योगिक आर्थिक क्षेत्रों सहित एकीकृत लॉजिस्टिक्स क्षमताएं शामिल हैं, जो हमें एक लाभप्रद स्थिति में रखती हैं, क्योंकि भारत वैश्विक आपूर्ति श्रृंखलाओं में निकट भविष्य में होने वाले परिवर्तनों से लाभान्वित होने के लिए तैयार है। हमारा दृष्टिकोण अगले दशक में दुनिया का सबसे बड़ा बंदरगाह और लॉजिस्टिक्स प्लेटफॉर्म बनना है। 2025 तक कार्बन न्यूट्रलिटी हासिल करने की दृष्टि के साथ, पूर्व-औद्योगिक स्तरों से 1.5 डिग्री सेल्सियस ऊपर ग्लोबल वार्मिंग को नियंत्रित करने के लिए उत्सर्जन में कमी के लक्ष्य के प्रति प्रतिबद्धता जताते हुए, एपीएसईज़ेड साइंस बेस्ड टारगेट्स इनिशिएटिव (एसबीटीआई) के लिए हस्ताक्षर करने वाला पहला भारतीय बंदरगाह और दुनिया का तीसरा बंदरगाह है। जो पूर्व से ही औद्योगिक स्तर पर 1.5 डिग्री सेल्सियस पर ग्लोबल वार्मिंग को नियंत्रित करने के लिए उत्सर्जन में कमी के लक्ष्य के लिए प्रतिबद्ध था।
(जी.एन.एस)

Advertisement

Advertisement

India Edge News Desk

Follow the latest breaking news and developments from Chhattisgarh , Madhya Pradesh , India and around the world with India Edge News newsdesk. From politics and policies to the economy and the environment, from local issues to national events and global affairs, we've got you covered.
Back to top button