रायपुर
Trending

Chhattisgarh News: रायपुर के खुटेरी जलाशय में डूबे तीसरे छात्र का शव दूसरे दिन बरामद

राजधानी रायपुर के मंदिर हसौद थाना क्षेत्र के खुटेरी जलाशय में डूबे निजी यूनिवर्सिटी के तीसरे बीटेक छात्र आदित्य झा का शव 12 घंटे बाद बरामद कर लिया गया है।

Advertisement

रायपुर,Chhattisgarh News: राजधानी रायपुर के मंदिर हसौद थाना क्षेत्र के खुटेरी जलाशय में डूबे निजी विश्वविद्यालय के तीसरे बीटेक छात्र आदित्य झा का शव 12 घंटे बाद बरामद कर लिया गया है। एसडीआरएफ की टीम ने शुक्रवार सुबह जलाशय में डूबे तीसरे छात्र की तलाश फिर से शुरू की। टीम द्वारा काफी खोजबीन के बाद आदित्य झा का शव बरामद हुआ |

कलिंगा यूनिवर्सिटी के तीन छात्र डूबे

कलिंगा यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले तीन छात्र वीडियो बनाते समय मंदिर हसौद थाना क्षेत्र के खुटेरी जलाशय में डूब गए। एसडीआरएफ की गोताखोरों की टीम ने दो छात्रों के शव को पानी से बाहर निकाल लिया है, तीसरे छात्र के शव की तलाश गुरुवार शाम तक की गई, लेकिन एसडीआरएफ की टीम को दूसरे दिन सफलता मिली. तीनों छात्र बिहार के रहने वाले हैं |

Advertisement

घटना के दिन दो शव बरामद किये गये थे

डूबे छात्र मुजफ्फरपुर निवासी आदित्य कुमार वर्मा और मोतिहारी निवासी सुधांशु जयसवाल का शव बरामद कर लिया गया है। भागलपुर निवासी आदित्य झा की तलाश की जा रही है. अंधेरा होने के कारण गुरुवार शाम को तलाशी अभियान बंद कर दिया गया है। शुक्रवार सुबह से एक बार फिर सर्च ऑपरेशन शुरू किया जाएगा. तीनों बीटेक चौथे सेमेस्टर के छात्र थे।

एक-दूसरे को बचाने में जुटे थे तीनों छात्र

जानकारी के मुताबिक, वहां कुछ लोग मौजूद थे. प्री-वेडिंग शूट भी चल रहा था. उन्होंने पुलिस को बताया कि पहले एक युवक डूब रहा था. उसे बचाने गया दूसरा छात्र भी डूबने लगा, तभी तीसरा छात्र गया और कुछ देर बाद वह भी डूब गया |

Advertisement

यूनिवर्सिटी में वार्षिक समारोह की तैयारियां चल रही थीं

कलिंगा यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार डॉ. संदीप गांधी ने बताया कि 10 फरवरी को वार्षिक समारोह का आयोजन किया गया था. सुबह से 12 बजे तक सभी की क्लास होती थी. इसके बाद कार्यक्रम का रिहर्सल होना था. ये छात्र 12 बजे तक क्लास में थे, जिसके बाद इन्हें वहां से निकाल दिया गया. साढ़े तीन बजे उसके डूबने की सूचना मिली। इसके बाद कार्यक्रम रद्द कर दिया गया है.

Advertisement

Advertisement

Pooja Singh

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)
Back to top button